10वीं के बाद क्या करें, कौन सा सब्जेक्ट लेना चाहिए? भाग – 2 (What to do after 10th, which subject should be taken? Part-2)

Hello Friends Masterji Tips मे आपका स्वागत है आज इस आर्टिकल में हम बात करेंगे कैसे दसवीं के बाद सबसे बढिया विषय कौनसा है? 10वीं के बाद क्या करियर विकल्प मौजूद हैं? यदि आपने भी 10वीं पास की हैं या फिर 10वीं कक्षा में पढ रहे हैं. तब आपके मन में ये सवाल जरूर आते होंग़े? और हम आपको विश्वास दिलाते हैं कि ऐसा सोचने वाले आप अकेले नहीं हैं. आपके अलावा आपके दोस्त, माता-पिता, रिश्तेदार यहाँ तक पडोसी भी इस प्रकार के सवालों को सोचते रहते हैं. और इनका समाधान ढूँढते रहते हैं. (आखिर सभी आपके लिए फिक्रमंद है.) हम आपको 10वीं के बाद आपको क्या करना चाहिए और क्यों करना चाहिए? इस बारे में पूरी जानकारी दे रहे हैं. ये Study Guide थोडी बडी हैं. इसलिए आपकी सुविधा के लिए हमने इसे कई छोटे-छोटे भागों में बांट दिया हैं.

10वीं के बाद आर्ट्स लेना

आर्ट्स के बार में मान्यता हैं कि जो विद्यार्थी नेतागिरी करना चाहते है और कम होशियार होते है. आर्ट्स केवल उन्ही विद्यार्थीयों के लिए होती हैं.

Study Arts After 10th in Hindi
Study Arts after 10th

मगर ये धारणा बिल्कुल निराधार हैं.

बल्कि सच्चाई तो यह कि हम इंसानों को इंसान बनाने वाली विषय आर्ट्स हैं.

बडे-बडे दार्शनिक, राजनेता, अभिनेता, सामाजित कार्यकर्ता, वकील, जज, अफसरसभी लोग आर्ट्स को पढकर ही बनते हैं.

कला संकाय में मौजूद विषय

भाषा (Language)

कला वर्ग में आप मातृ-भाषा के अलावा अन्य भाषाओं का अध्ययन विषय के रूप में कर सकते हैं. ये भाषा आपके शिक्षा बोर्ड एवं क्षेत्र के अनुसार अलग-अलग होती हैं.

मगर कुछ मुख्य भाषाओं के नाम हम बता रहे है. जिन्हे आप कला वर्ग में विषय के रूप में ले सकते हैं.

  1. अंग्रेजी
  2. संस्कृत
  3. पंजाबी
  4. सिंधी
  5. उर्दु
  6. तमिल
  7. तेलूगु
  8. गुजराती
  9. हिंदी
  10. बंगाली

इतिहास (History)

इतिहास में आपको भारतीय इतिहास पढाया जाता हैं. यानि बीते समय में क्या हुआ था. उन घटनाओं के बारे में अध्ययन करवाया जाता हैं. अगर आपकी रुची ये जानने में रहती है कि मुगलों ने हमें गुलाम कैसे बनाया? तो इतिहास आपके लिऐ सही विषय हो सकता हैं. इस विषय को पढने में आपकि रुचि होना बहुत जरूरी हैं. नहीं तो सालों इतिहास पढने के बाद यहीं समझ नही आएगा कि बाबर का बेटा हुमायुँ था या अकबर का बाप हुमायुँ था?

भूगोल (Geography)

हमारी धरती,पानी, पेड-पौधे कहाँ से आए? समुंद्र किसने बनाए? पहाडों को कौन गढ रहा है? यदि ये सवाल आपको उत्सुक करते हैं. तब आप भूगों यानि Geography ले सकते हैं. इस विषय में हमारी धरती के बारे में अध्ययन करवाया जाता हैं.

मनोविज्ञान (Psychology)

हम इंसान, जानवर कैसे सोचते हैं? जवाब किस आधार पर देते हैं? हम सभी इंसान एक जैसे क्यों नहीं हैं? मनोविज्ञान इन सभी सवालों के जवाब आपको दे सकता हैं. क्योंकि मनोविज्ञान में हम इंसानों के व्यवहार के बारे में अध्ययन करवाय जाता हैं? मनोविज्ञान में आप उच्च शिक्षा लेते है तब आपके लिए इस विषय में बहुत ज्यादा करियर ऑप्शन खुल जाते हैं.

समाजशास्त्र (Sociology)

समाजशास्त्र में समाज नाम की संरचना का अध्ययन करवाया जाता हैं. यदि आप समाज की संरचना को समझना चाहते हैं. तब आप समाजशास्त्र ले सकते हैं. इस विषय का अध्ययन करना आगे चलकर आपको सेवा में मेवा का विकल्प देता हैं.

दर्शनशास्त्र (Philosophy)

कला वर्ग इसी विषय की शाखाओं को विस्तार हैं. यदि आप अकेला रहना पसंद करते हैं और खुद को दुनिया से अलग ही इंसान समझते हैं. तब दर्शनशास्त्र को ले सकते हैं. इसमें दर्शन कि पढाई करवाई जाती हैं.

राजनीति (Political)

यदि आप हमारे देश और दुनिया भर में मौजूद राजनीति को समझना चाहते है. तब आप राजनीति पढ सकते हैं. और राजनेता बनने का प्रशिक्षण भी ले सकते हैं.

लोक प्रशासन (Public Administration)

यह राजनीति की दूसरी विषय है. और इसमें प्रशासन के बारे में अध्ययन करवाया जाता हैं. हमारे देश का प्रशासन कैसे बनता हैं? इसकी संस्थाओं का गठन कैसे होता हैं? आदि के बारे में जानकारी दी जाती हैं.

संगीत(Music)

यदि आपको नाचने-गाने का शौक है. तब आप अपनी प्रतिभा को निखारने के लिए इस विषय का चुनाव कर सकते हैं. इसमें आपको संगीत की बारीकियाँ सीखाई जाती हैं.

आर्ट्स विषय में करियर विकल्प

आर्ट्स विषय में सबसे ज्यादा करियर विकल्प मौजूद हैं. और मजे की बाद आप हमारे देश में सबसे बडे पद पर भी इस विषय के द्वारा पहुँच सकते हैं. अध्यापक, प्रोफेसर, प्रशासनिक अधिकारी (जिला कलेकटर, एस पी, तहसीलदारआदि), राजनेता, कलाकार, पेशेवर, वकील जज, न्यायधीश इत्यादि सभी बडे-बडे पद इसी विषय से ही निकलते हैं. इसलिए आप कला विषय चुनकर अपना अच्छा करियर बना सकते हैं. क्योंकि अधिकतर सरकारी नौकरियां भी कला विद्यार्थीयों के पास ही होती हैं.

ध्यान दें: यदि आप कला संकाय लेने के बाद अपना संकाय बदलना चाहते है. तब आप ऐसा नही कर सकते है. इसलिए सोच समझकर ही अपना फैसला करें. ये वर्ग आपको दूसरा मौका नही देता हैं.

Friends अगर आपको यह Article पसंद आया हो तो कृपया इसे अपने Friends के साथ share करे और हमारे आने वाले सभी Articleको सीधे अपने ईमेल बॉक्स में पाने के लिए हमें free subscribe करे. अगर आपका कोई सवाल हो तो कृपया comments करे..

Leave a Reply

%d bloggers like this: