Fight against Corona

दुनिया के ताकतवर मुल्क समझ रहे थे कि कोरोना उनके देश में नहीं आएगा ,वह सोच रहे थे कि कोरोना चीन में ही रुक जाएगा | जिस देश ने कोरोना रोकने में बरती लापरवाही वह अब भारत से मांग रहा हैं मलेरिया की दवाई | मैं दुनिया के सबसे ताकतवर मुल्क अमेरिका की बात कर रहा हूँ | कोरोना को रोकने के लिए कदम उठाने में अमेरिका ने देरी कर दी | इस देरी के कारण अमेरिका दूसरे देशो से मदद लेने के लिए मजबूर हो गया | अब अमेरिका के लिए अपने बल बूते पर कोरोना से लड़ाई लड़ना मुश्किल ही नहीं नामुनकिन हैं | एक विकासशील देश भारत में कोरोना का बेहद कम फैलना बहुत बड़ी जीत हैं | मोदी हैं तो मुमकिन हैं | कम फैलने से मेरा मतलब संक्रमित मरीजों की percentage यानी फीसदी से हैं |

खोजने के लिए कोरोना की दवाई, दुनिया के काफी देशो ने ढेर सारी दौलत है लगाई | दुनिया के देशो के पास दो रास्ते हैं ,एक तरफ कुआ हैं दुसरी तरफ खाई हैं | दुनिया के देशो की कोरोना से लड़ाई हैं | पहला रास्ता हैं lockdown का, इस रास्ते पे चलकर कोरोना के संक्रमण को कम किया जा सकता हैं | परन्तु गरीब जनता की सेहत भूखे रहने से खराब हो सकती हैं | दूसरा रास्ता हैं अर्थव्यवस्था की चिंता करने का | यदि lockdown नहीं लगता हैं तो लोग कोरोना से संक्रमित हो जाएंगे ,लोग काम करने लायक नहीं रहेंगे | लोगो के काम न करने के कारण अर्थव्यवस्था बर्बाद हो जाएगी | देशो को इन दोनों रास्तो के बीच का रास्ता अपनाना चाहियें |यह वो रास्ता हैं जिसे भारत ने अपनाया हैं | भारत सरकार ने आवश्यक वस्तु और आवश्यक सेवायों को छोड़कर बाकी सब पे lockdown के नियम को लागु किया हैं |

WHO (World Health organisation ) ने कहा हैं क़ि कोरोना से जंग में हिंदुस्तान दुनिया को रास्ता दिखा सकता हैं |United Nations Organisation ने कहा क़ि कोरोना से होने वाली मंडी का असर भारत में कम पड़ेगा | इसका कारण हैं भारत की नीति ,हिंदुस्तान ने कोरोना के संकट को पहले ही भाप लिया था | विदेश से भारत में आ रहे लोगो की जांच शुरू कर दी थी | विदेश से भारत आ रहे लोगो को 14 दिन quarantine यानी जनता से अलग रखा गया |सरकार ने स्वास्थ सेवाओं के लिए काफी धन दिया | भारत सरकार ने 80 करोड़ जनता की आर्थिक मदद के लिए नीति बनाई | 21 दिन के lockdown से कोरोना को रोकने में काफी मदद मिली रही हैं |

Hydroxychloroquine नाम की मलेरिया की दवा की जरूरत तो दुनिया के 30 मुल्को को हैं,परन्तु इसके उत्पादन की क्षमता भारत के पास अधिक हैं |भारत सरकार आर्थिक लाभ के ऊपर इंसानियत को तरजीह दे रही हैं | ब्राज़ील के मुखिया का कहना हैं कि हिंदुस्तान का hydroxychloroquine देने का फैसला संजीवनी देने जैसा हैं |रामायण में बताया गया हैं कि संजीवनी से लक्ष्मण का इलाज हुआ था | भारत दुनिया के काफी देशो की मदद करके सर्वे भवन्तु सुखिन की नीति का पालन कर रहा हैं | इस नीति का मतलब हैं सब लोग सुखी यानी खुश रहे ,सभी लोग निरोगी रहे | अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प ने मोदी को महान नेता बताया हैं |

Vedant kabra.

You can whattsapp me on 8630600312. My email id is vedantkabra37@gmail.com

Leave a Reply

%d bloggers like this: