कोरोना की शुरुआत

कोरोना वायरस जैसी बीमारियां यू ही नहीं उभरती, इसके पीछे कारण होते हैं | कारण लोगो के सामने होते हैं परन्तु वह उन्हें रोकने में नाकाम हो जाते हैं | कोविद -19 के फैलने का अनुमान लगा लिया गया था और उसे फैलने से रोका जा सकता था |

21 वी सदी की शुरुआत से ही दुनिया ने बहुत सी जानवरो से फैलने वाली बिमारियों को देखा हैं | यह बीमारियां उन बैक्टीरिया और वायरस से होती हैं जो जानवरो से इंसान में चले जाते हैं | कुछ बीमारियां इंसान के लिए नई हैं जिनसे लड़ने की क्षमता इंसान में नही हैं | आंकड़े बताते हैं कि पिछले 20 साल में जानवरो से फैलने वाली बिमारियों में इजाफा हुआ हैं |

वर्ष 2000 से लेकर अब तक हमने 3 जानवरों से फैलने वालीं भयानक बिमारियों को देखा हैं | इनके नाम हैं SARS,स्वाइन फ्लू और कोविद -19 | SARS और कोविद-19 बिल्ली और चमकादड़ से फैले चीन में | स्वाइन फ्लू मेक्सिको में सूअर के खेत से फैला | इस दरमियान कई प्रकार की जानवरों से फैलने वालीं क्षेत्रीय बिमारियों को भी देखा गया |बर्ड फ्लू, ऊंट से होने वाली MERS , बन्दर और सूअर से होने वालीं इबोला, चिड़ियों से होने वाला भुखार, चमकादड़ से होने वाला निपह कुछ क्षेत्रीय बिमारियों के नाम हैं जो कि जानवरों से होती हैं |

इन सभी बिमारियों की जड़ में 3 कारण हैं | पहला कारण हैं पर्यावरण की तबाही | वन और जंगल में कमी के कारण जंगली जानवर और इंसान करीब आ गए | इसका नतीजा यह हुआ कि जानवर वालीं बीमारियां इंसान में चलीं गयी | इबोला, वेस्ट नील वायरस, निपह और ज़ीका पहले कारण से फैलने वालीं बीमारियां हैं | इसी प्रकार पालतू पशु भी जंगली जानवर के समपर्क में आ रहे हैं | इन पालतू पशुओ से यह बीमारी इंसानो में जा रही हैं |इसका एक उद्धरण रिफ्ट वैली वायरस हैं |

दूसरा कारण कुछ गलत परम्पराएं रही हैं | जंगली जानवर को कच्चा खाने से नावेल पैथोजन इंसान में घुस गयें | कोविद-19 और सरस जैसी बिमारियों की शुरुआत चीन के जंगली जानवरों के बाजार में हुई | जंगली जानवरों को खाने की परंपरा चीन तक सीमित नहीं हैं | यह परंपरा दुनिया के कई देशो में प्रचलित हैं |

तीसरा कारण जानवरों के पालन का तरीका हैं | जानवरों को एक दूसरे के पास रखकर पालन करना ठीक नही हैं |जानवरों में एंटीबायोटिक डालना भी एक कारण हैं |

यह कारण किसी से छुपे नहीं हैं, इन्हे रोकने के लिए कानून भी बनाये गए हैं | दुनिया के कई देश जिनमे भारत भी शामिल हैं ने जंगल को कटने से बचाने और जंगली जानवर के व्यापार और सेवन को रकने के लिए कड़े कानून बनाये | कई देशो ने जानवरो के पालन में परंपरा को और बेहतर बनाने के लिए कानून बनाये | परन्तु यह कानून सख्ती से लागु नहीं हो पाएं | Globalisation के ज़माने में एक देश की गलती का खामियाजा पूरी दुनिया भुगत रही हैं | इस खामियाजे के नाम से आप परिचित हैं | इसका नाम कोविद-19 हैं | कोरोना के दुनिया भर में फैलने में चीन की गलती का एहम योगदान हैं | जब सरस नाम की बीमारी फैली तो इस बात का अंदाज़ा लगा लिया गया था कि चमकादड़ और बिल्ली में कोरोना वायरस मौजूद हैं | चीन ने बिल्ली के सेवन पर प्रतिबंध लगाया पर उसे ठीक के लागू नहीं किया | चीन ने जंगली जानवर की खेती और सेवन रोकने का कानून बनाने में देरी कर दी | चीन ने यह कानून 2018 में बनाया |

Vedant kabra.

You can whattsapp me on 8630600312. My email id is vedantkabra37@gmail.com

2 thoughts on “कोरोना की शुरुआत

  • March 28, 2020 at 3:29 PM
    Permalink

    Excellent it makes us aware of crude reality

    Reply
    • March 30, 2020 at 8:03 PM
      Permalink

      Thanks for Feedback

      Reply

Leave a Reply

%d bloggers like this: